Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

भारत का संविधान मानवाधिकारों का सबसे बड़ा संरक्षक - एडवोकेट घोसी

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल, फलोदी फलोदी उपखंड मुख्यालय पर अम्बेडकर सर्किल के पास स्थित अम्बेडकर शिक्षक सदन में गुरूवार को समता सैनिक दल एव...

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल, फलोदी

फलोदी उपखंड मुख्यालय पर अम्बेडकर सर्किल के पास स्थित अम्बेडकर शिक्षक सदन में गुरूवार को समता सैनिक दल एवं सामाजिक न्याय केंद्र फलोदी के संयुक्त तत्वावधान में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस पर विचार- संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

विचार संगोष्ठी में उपस्थित प्रबुद्ध नागरिक

विचार संगोष्ठी में विचार व्यक्त करते हुये विधिवेता एडवोकेट सिंकदर घोसी ने कहा कि पूरी दुनिया में मानवता के खिलाफ होने वाले अन्याय-अत्याचार को रोकने तथा उसके खिलाफ जन संघर्ष को बढावा देने में इस दिवस की महत्वपूर्ण भूमिका है, किसी भी इंसान की जिंदगी, आजादी और बराबरी का समान का अधिकार ही सही अर्थो में मानवाधिकार है। आपने कहा कि हमारे देश का संविधान मानवाधिकारों का सबसे बड़ा संरक्षक है। इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुये समता सैनिक दल राजस्थान के प्रदेश महासचिव एडवोकेट गोरधन जयपाल एवं सोशल एक्टिविस्ट भैराराम मकवाना ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ महासभा द्वारा वर्ष 1948 में सार्वभौमिक मानवाधिकारों की घोषणा को स्वीकार किया गया। 

भारत में 26 सितम्बर 1993 से मानवाधिकारों पर अमल शुरू किया गया। आपने राष्ट्रीय एवं राज्य मानवाधिकार आयोग की कार्य प्रणाली के बारें में विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुये सामाजिक न्याय केंद्र फलोदी के प्रभारी अशोक कुमार मेघवाल एवं डीवाईएफआई फलोदी के संयोजक तिलोक चौहान ने कहा कि मानवाधिकारों के संरक्षण के लिये सभी नागरिकों को एकजुट होना होगा,भाजपा शासित राज्यों में सरकारों द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामलें लगातार बढ़ रहे है।

समाज के पीड़ित एवं वंचित तबके की आवाज उठाने वालो को सरकारों द्वारा निरतंर प्रताड़ित किया जा रहा है, सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वालो को बगैर सुनवाई के जेलो में डाला जा रहा है। विचार संगोष्ठी में समता सैनिक दल के जिला महासचिव देवीलाल गंढेर, फलोदी शाखा महासचिव श्रवण कुमार, सलीम तेली, युसूफ तेली, निरमा लीलड़, सरपंच भंवराराम मेघवाल, गणपत मेघवाल, चनणाराम सेजू, सुरजाराम लीलड़ सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। विचार संगोष्ठी का संचालन अशोक कुमार मेघवाल ने किया।

No comments