Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

ADVT


 

पायतन, आगोर, गौचर भूमि सहित सरकारी स्कूल की भूमि पर कब्जा कर भूमाफियाअेां ने बना दिए अवैध पक्के निर्माण

अतिक्रमियों ने सरकारी भूमि पर पीएम आवास भी बनाएं, ग्रामीणों ने की उपखंड अधिकारी से शिकायत, एसडीएम ने दिए अतिक्रमण हटाने के निर्देश Ba...

अतिक्रमियों ने सरकारी भूमि पर पीएम आवास भी बनाएं, ग्रामीणों ने की उपखंड अधिकारी से शिकायत, एसडीएम ने दिए अतिक्रमण हटाने के निर्देश

Bap News: घटोर ग्राम पंचायत क्षेत्र में सक्रिय भूमाफियाओं ने सरकारी भूमि पर अतिक्रमण पक्के निर्माण करने के साथ सरकारी भूमि को फर्जी तरिके से खातेदार भूमि बता प्रधानमंत्री आवास तक बना दिए। सोमवार को बड़ी संख्या में उपखंड कार्यालय पहुंचे ग्रामीणों ने एसडीएम को लिखित में शिकायत कर अतिक्रमण हटाने व पीएम आवास की जांच करवा दोषियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने की मांग की हैं। 

ग्रामीणों ने उपखंड अधिकारी को बताया कि खसरा नंबर 1480 गैर मुमकिन भाखेरी नाडी की भूमि है। खसरा नंबर 1481 पायतन व आगोर है। उक्त भूमि पर आसूलाल द्वारा अवैध कब्जा कर पक्का अवास बना दिया। इसी खसरा में राजकीय प्राथमिक विद्यालय मेघवालों की ढाणी आई हुई है, जिसके पास भी आसूलाल ने मकान बनाकर कब्जा जमा लिया। साथ ही अवैध तरीके से सब्जियां उगाई जा रही है। लगातार पानी डालने से स्कूल भवन की दीवारें व नींव कमजोर पड़ गई है। जिस वजह से हादसे से भी इंकार नहीं किया जा सकता हैं। खसरा नंबर 1495 नोख से भींवजी का गांव जाने वाला कटाण मार्ग है, जिस  पर भी इन लोगांे ने अतिक्रमण कर बंद रखा हैं। कटाण मार्ग बंद होने से लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही हैंं। 
खसरा नंबर 1253 सरकारी भूमि है, जिस पर पतुराम ने सरकार स्कूल के समीप कब्जा कर रखा हैं। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि किशनाराम, लीलाराम, जगनाराम, लूम्बाराम आदि ने कब्जा कर रखी भूमि पर फर्जी कागजातों के माध्यम से प्रधानमंत्री अवास तब बना लिए। इस दौरान बाबुलाल पालीवाल, लीलाधर पालीवाल, बालकिशन पालीवाल, हरीराम, कानाराम, सेवाराम, लूणकरण, मगाराम, भंवराराम, मूलाराम सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। 

अतिक्रमण हटाने के लिए तहसीलदार, बाप को निर्देशित कर दिया है कि तारीख निर्धारित कर अतिक्रमण हटाएं। पीएम आवास योजना की जांच के लिए विकास अधिकारी, बाप को निर्देश दिए हैं। महावीरसिंह, उपखंड अधिकारी बाप। 

No comments