Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

ADVT

जैविक खेती को बढावा देने तथा प्लास्टिक उन्मूलन का आह्वान

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल, फलोदी फलोदी उपखंड क्षेत्र की निकटवर्ती ग्राम पंचायत खीचन में शुक्रवार को समस्त महाजन, तालुका विधिक सेवा समिति ...

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल, फलोदी

फलोदी उपखंड क्षेत्र की निकटवर्ती ग्राम पंचायत खीचन में शुक्रवार को समस्त महाजन, तालुका विधिक सेवा समिति फलोदी एवं महावीर इंटरनेशनल फलोदी केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में राधा-कृष्ण गौशाला छीपों की प्याऊ खीचन में पौधारोपण किया गया, इस अवसर पर पदाधिकारियों द्वारा 11 पीपल के पौधे लगायें गये तथा अनुपयोगी अंग्रेजी बबूल को काटा गया। 


इस दौरान खीचन गांव के सेवाराम माली जो सदैव पक्षियों की सेवा में तत्पर रहते है को समस्त महाजन संस्थान के राजस्थान सहप्रभारी रविंद्र कुमार जैन, महावीर इंटरनेशनल फलोदी के अध्यक्ष मधुकर मोखा, मुकेश कोठारी, विकास नाहटा, समाज सेवी भीकमचंद राजपुरोहित एवं चेष्टा जैन आदि ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर उपस्थित सभी लोगों ने मास्क की महत्ता के विषय में बात की, सभी ने समाज के सभी वर्गो में मास्क के प्रति जागरूकता लाने के लिए हर संभव प्रयास करने की बात कही। डॉ. विकास नाहटा ने कोविड में सावधानी के साथ-साथ आयुर्वेदिक काढ़ा पीने की सलाह दी तथा संत दयानन्द गिरी को काढा भेंट किया।  नये निर्माण की तरफ अग्रसर राधा कृष्ण गौशाला के संचालक दयानंद गिरी से चर्चा करते हुए कार्यकर्ताओं ने बताया कि प्लास्टिक कचरे को जहां तक हो सके एक जगह इकट्ठा करके कचरा संग्रहण केंद्र पर भिजवाना चाहिये इसे जगह - जगह बिल्कुल भी नही फेकना चाहिये, प्लास्टिक के कचरे को गाय खाकर बीमार ना पड़े  यह ध्यान रखने की जिम्मेदारी हम सभी की है। पर्यावरण की दृष्टि से प्लास्टिक का कम से कम उपयोग हो ऐसा प्रयास हमें करना चाहिये। प्लास्टिक के कचरे को कभी भी जलाना नही चाहिये क्योंकि इससे जहरीली गैस हवा में मिलकर हवा को भी प्रदूषित करती है। 

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के दीपावली कामधेनु अभियान के तहत 11 करोड़ परिवारों में 3 दीपक जलाने की योजना के तहत समस्त महाजन द्वारा बने पोस्टर का विमोचन उपस्थित अतिथियों द्वारा किया गया तथा उन्हे यह बताया गया कि श्री ओसवाल गौसेवा सदन पिंजरा पोल फलोदी में गोबर से बने हुये दीपक उपलब्ध है जिनको वहां से ले जाकर अपने घरों में प्रज्वलित किया जा सकता है। खाद्य दिवस पर जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिये खीचन गांव के प्रगतिशील किसान भीखमचंद राजपुरोहित को जैविक खेती करने के लिए प्रेरित किया गया,उन से अनुरोध किया गया कि अपनी कुल खेती की जमीन के 10 प्रतिशत हिस्से में एक बार यह प्रयोग शुरू करे, जैविक खेती के अनेक फायदे है, जैविक खेती हमारे स्वास्थ्य तथा पर्यावरण तथा समस्त जीव-जंतुओं के लिये लाभकारी है। जैविक खेती को बढ़ावा देने तथा पौधों के अच्छे पोषण के लिये संत दयानंद गिरी से अनुरोध किया गया कि वह बंशी गिर गौशाला के द्वारा विकसित इस कल्चर को ज्यादा से ज्यादा प्रयोग में लाये, मदर कल्चर आपके पास उपलब्ध है। इससे जमीन की उर्वरा शक्ति बढ़ती है। 

और पर्यावरण को किसी प्रकार का कोई नुकसान नही होता,बाजार में उपलब्ध रासायनिक कीटनाशकों का उपयोग ना करके धतूरे, नीम तथा आकड़े के पत्तों से बनने वाले काढ़े का प्रयोग करना पर्यावरण की दृष्टि से सही है। कृषि वैज्ञानिक एमएस चांदावत द्वारा बताये गये फार्मूले को उपस्थित सभी लोगों के साथ शेयर किया गया और सभी से यह आग्रह किया गया कि अपने घरों में यदि किचन गार्डन अथवा खेतों में इसे प्रयोग लेना चाहे  तो इस फार्मूले के अनुसार काढ़ा बनायें और उसका उपयोग करे। इस अवसर पर भीखमचंद राजपुरोहित परिवार की तरफ से एक  ट्रैक्टर ट्रॉली चारा भेंट किया गया, उन्होंने महावीर इंटरनेशनल के फलोदी केंद्र की सदस्यता भी ग्रहण की।

No comments