Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

ADVT


 

शिक्षकों को विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियों से शीघ्र मुक्त करे सरकार

Bap New s:  राजस्थान शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ उप शाखा फलोदी के सभाध्यक्ष रेंवतलाल लीलावत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक तथा शिक्ष...

Bap News: राजस्थान शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ उप शाखा फलोदी के सभाध्यक्ष रेंवतलाल लीलावत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक तथा शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को ज्ञापन भेजकर राजस्थान में शिक्षको की ड्यूटी के लिये लगातार जारी हो रहे बेतुके आदेशों पर रोक लगाने की मांग करते हुये बूथ लेवल अधिकारियो को कोरोना डयूटी से मुक्त कर घर जाने   की अनुमति देने के आदेश जारी करने का आग्रह किया है। 
रेंवतलाल लीलावत
 लीलावत ने बताया कि प्रदेश में शिक्षा विभाग के 4 लाख से   अधिक शिक्षक इन दिनों विभिन्न जिलों में जिला प्रशासन की   ओर से निकाले जा रहे मनमाने आदेशों से परेशान है। कभी   उनकी  ड्यूटी मृत्यु भोज की निगरानी में लगाई जा रही है, तो   कभी शादी और मनोरंजन जैसे कार्यों में शिक्षकों के इस तरह के   गैर शैक्षिक कार्यो में लगाने के अधिकांश आदेश उपखंड   अधिकारियों की तरफ से निकाले जा रहे है। इस तरह के आदेशों   को लेकर अब संगठन सरकार से आर-पार की लड़ाई के मूंड में है।  लीलावत ने बताया कि इस तरह शिक्षकों की गैर शैक्षिक कार्यों   में  ड्यूटियां लगी हुई है। राजाखेड़ा में नरेगा में श्रमिकों के निरीक्षण में, बारां मांगरोल में शादी में सोशल डिस्टेंसिंग में, पाली में रानी रेलवे स्टेशन पर डाटा इंद्राज में, करौली में आवारा पशुओं का सर्वे और क्वारेंटाइन सेंटरों पर रखे गये लोगों का मनोरंजन करने में, कोटा में दैनिक रेल यात्रियों की स्क्रीनिंग में, दुदौड पाली में मृत्यु भोज में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाने में, कोटा  जिले में टिड्डी दल को भगाने व इसके लिये जागरुकता पैदा करने में, प्रतापगढ़ में बाढ़ नियंत्रण कक्ष में, भीलवाड़ा में अवैध बजरी खनन की चैक पोस्ट पर, बाड़ी में खाद्य सुरक्षा योजना से अपात्रों को हटाने आदि  आदेशों पर लीलावत ने रोष प्रकट किया है।
लीलावत ने बताया कि सभी बीएलओ पंचायत चुनाव से लेकर आज तक लगातार डयूटी कर रहे है। दूसरे शिक्षक-कर्मचारी जहां छुट्टियों में घर पर है या वर्क फ्रॉम होम कर रहे है।  बीएलओ शिक्षक पिछले तीन महीनों से अपने घर भी नही जा पाये है। जिसकी वजह से वे अपने बुजुर्ग माता-पिता, पत्नी व बच्चों को संभाल नही पाये है। आपने सीमाओं पर स्थापित चैक पोस्टों को हटाकर वहां लगे कार्मिको को शीघ्र राहत देने की भी मांग की है।

फलाेदी से अशोक कुमार मेघवाल की रिपोर्ट

No comments