Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

ADVT

फलोदी पंचायत समिति में विकास अधिकारी कौन, शर्मा या गर्ग ?

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल   फलोदी पंचायत समिति में अब एक की बजाय दो विकास लगे हुये है, एक राज्य सरकार के आदेश से तो दूसरे उच्च न्यायालय क...

Bap News : अशोक कुमार मेघवाल  

फलोदी पंचायत समिति में अब एक की बजाय दो विकास लगे हुये है, एक राज्य सरकार के आदेश से तो दूसरे उच्च न्यायालय के आदेश से।

समिति के स्थानीय ग्राम विकास अधिकारियों, पंचायत समिति के कार्मिकों तथा जन प्रतिनिधियों में शुक्रवार को इस बात की दिन भर चर्चा चलती रही कि अब इन परिस्थितियों में क्या किया जायें ? उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग द्वारा जारी तबादला सूची में फलोदी पंचायत समिति के तत्कालीन विकास अधिकारी ललित कुमार गर्ग को फलोदी से हटाकर देचू पंचायत समिति में बीडीओ लगाया गया था तथा फलोदी में उनके स्थान पर पदस्थापन की प्रतीक्षा में चल रहे डाॅ. रामवतार शर्मा को लगाया गया था। 
उस समय फलोदी के तत्कालीन विकास अधिकारी ललित कुमार गर्ग का स्थानांतरण रद्द करवाने के लिये कांग्रेस नेता महेश व्यास एवं कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेताओं के नेतृत्व में लगभग दो दर्जन सरपंचों का प्रतिनिधिमंडल जयपुर गया था, लेकिन उनको स्थानांतरण रद्द करवाने में सफलता नही मिली थी। तब सरकारी आदेशों की अनुपालना में शर्मा ने फलोदी में तथा गर्ग ने देचू में पदभार ग्रहण कर लिया था। इसके बाद देचू विकास अधिकारी ललित कुमार गर्ग अपने स्थानांतरण के खिलाफ राजस्थान हाईकोर्ट में चले गये तथा वहां से स्थगन आदेश ले आये तथा गुरूवार को देचू बीडीओ पद से रिलीव हो गये एवं शुक्रवार को फलोदी में पदभार ग्रहण करने पहुंचे।
लेकिन फलोदी में पूर्व से पदस्थापित विकास अधिकारी रामवतार शर्मा ने उनको चार्ज नही सौंपते हुये सारी वस्तु स्थिति की रिपोर्ट बनाकर सीओ जिला परिषद जोधपुर को भिजवा दी। उन्होंने बताया कि अभी तक सीओ जिला परिषद जोधपुर द्वारा इस संबंध में कोई भी आदेश जारी नही किया गया है, शर्मा ने बताया कि इस संबंध में सीओ जिला परिषद जोधपुर जो भी आदेश जारी करेगें उसी के अनुसार कार्य किया जायेगा। इस संबंध में बातचीत करने पर एसीओ जिला परिषद जोधपुर विकास राजपुरोहित ने बताया कि हमें कल ही हाईकोर्ट का आदेश मिला है,जिस पर विभागीय उच्चाधिकारियों से मार्गदर्शन मांगा गया है। विभागीय उच्चाधिकारियों के आदेशों के अनुसार ही कार्रवाई अमल में लाई जायेगी।

No comments