Page Nav

HIDE

Classic Header

Top Ad

Breaking News:

latest

शामलात को बचाने का लिया संकल्प सामूहिक : मेघवाल

Bap News :  उन्नति विकास शिक्षण संगठन जोधपुर द्वारा यूरोपियन यूनियन के सहयोग से फलोदी एवं बाप पंचायत समिति क्षेत्र की विभिन्न ग्राम पंचायतों...


Bap News :  उन्नति विकास शिक्षण संगठन जोधपुर द्वारा यूरोपियन यूनियन के सहयोग से फलोदी एवं बाप पंचायत समिति क्षेत्र की विभिन्न ग्राम पंचायतों के 40 राजस्व गांवो में निकाली जा रही शामलात शोध यात्रा के शुभारंभ के पश्चात ग्राम पंचायत रिण मलार एवं ननेऊ तथा गुरुवार को ग्राम पंचायत कल्याणसिंह की सिड में ग्रामीणों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। इस अवसर पर वरिष्ठ समाज सेवी एवं ग्राम पंचायत कल्याणसिंह की सिड सरपंच केशुराम मेघवाल एवं उन्नति जोधपुर के प्रोग्राम ऑफिसर तोलाराम चौहान ने कहा कि शामलात संसाधनो के संरक्षण एवं संवर्धन की व्यवस्था पुराने समय में हमारी जीवन पद्धति का अहम हिस्सा थी। वर्तमान समय में यह व्यवस्था तेजी से कमजोर होती जा रही है। जो चिंता का विषय है। उन्होंने नाडी, तालाब, ओरण, गोचर के संरक्षण के लिये लोगों को आगे आकर इसे बचाने का संकल्प ले। 

कल्याणसिंह की सिड मे सरकारी भूमि पर सॉलर कम्पनिया अपने नाम अलॉट करवाने की फिराक मे है। यदि ऐसा हुआ तो गाँव का विकास व परम्परागत सन्शाधन सिमित हो जायेंगे। सभी ने कंपनीयों से गांव विकास के लिए सरकारी भूमि बचाने का साझा प्रयास करने का संकल्प लिया गया। उन्नति जोधपुर यात्रा प्रबंधक दिलिप बिदावत ने बताया कि आगामी दिनों में कल्याणसिंह की सिड में पडत की 2800 बीघा भूमि को सॉलर प्लाण्ट के लिए आवंटन की प्रक्रिया मे है। जो आमजन के लिये बहुत ही चिन्तनीय है। इस प्रक्रिया से आने वाले समय मे विकास का पहिया थम जायेगा। आपने लोगों को आह्वान किया कि जनहित मे इस प्रक्रिया को रदद करने के लिये आगे आना चाहिये ।

कल्याणसिंह की सिड में तालाब व नाडीया आज भी सुरक्षित है। गांव में आज भी सामूहिक श्रमदान की परपंरा है। नागरिक इसे निभा रहे है। इस अवसर पर विचार व्यक्त करते एडवोकेट गोरधन जयपाल ने कहा शामलात को बचाना बहुत जरुरी है। ये बचेगे तो ही सभी का भला हो पायेगा, बढते औद्योगिकरण के चलते शामलात संसाधनो का दायरा कम होता जा रहा है,आने वाले समय में इसके गंभीर परिणाम होगें। 

इस अवसर पर एफईएस के कैलाश शर्मा ने शामलात शोध यात्रा के उद्देश्यों पर रोशनी डालने हुये शामलात संसाधनो के रख रखाव में समुदाय की भूमिका को विस्तार से रेखांकित किया। 

इस अवसर पर गिरधारीराम भाटिया, गंगाराम चौहान, जेसलाराम पनू, दुर्गाराम जयपाल, पन्नेसिन्ह, खेताराम परिहार, मगाराम, कालू भारती, प्रभु महाराज,नारायण राम नाई, दलाराम, हरलाल पनू, मोहनराम सहित अन्य कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। दस दिवसीय शामलात शोध यात्रा में  शिशिर पुरोहित, निशा कुमारी, भीमाराम, भटाराम, सुरज तंवर,चंदन कुमार, देवीलाल, श्रवण कुमार, जगदीश कटारिया, बीजाराम आदि सहयोग कर रहे है।

No comments